तेजस्वी यादव का चुनावी वादा, सत्ता पार्टी को हरकत में ला दिया।

जी हां ,तेजस्वी यादव बेरोजगारी को मुद्दा बनाकर जबरदस्त चुनावी वादा, आम लोगों के बीच में रखने का काम किया है, इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता हैं। इसके बाद ही सत्ता पक्ष भी चुनावी वादों के रूप में अपना मोर्चा खोल दिया है। एक तरफ तेजस्वी यादव हर जनसभा में यह संबोधित कर रहे हैं कि 1000000 नौकरी, पहली कैबिनेट में पहला  हस्ताक्षर से देकर शुरू किया जाएगा, युवा वर्ग के लिए एक जबरदस्त लुभावना चुनावी वादा है। भले ही वह वादा पूरा हो या ना हो वो अलग बात है, लेकिन बेरोजगारी मुद्दा युवा वर्ग के लिए बहुत ही अहम है।

दूसरी तरफ सत्ता पक्ष भी विपक्ष की चुनावी मुद्दा को भांप कर नए- नए चुनावी वादों का जुमला लोगों के बीच रखने में परहेज नहीं कर रहे हैं। नीतीश कुमार भी लोगों से वादा कर रहे हैं कि यदि उन्हें आगे मौका  मिला तो लोगों को आर्थिक सहायता के रूप में 1000000 का मदद करेंगे। तेजस्वी यादव ने टीचरों के शिक्षकों के लिए समान काम समान वेतन का मुद्दा रखकर, शिक्षकों का वोट अपनी और आकर्षित करने में जबरदस्त फॉर्मूला अपनाया है।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *